निवेदन

‘काशीकथा‘ बनारस की संस्कृति एवं विरासत को संजोने एवं इंटरनेट के माध्यम से अधिकाधिक पाठकों/जिज्ञासुओं तक इस प्राचीन नगरी की विशिष्टताओं को प्रेषित करने के पुनीत उदेश्य के साथ शुरू किया जा रहा है। यह एक दीर्घकालिक एवं निरंतर चलने वाली प्रक्रिया है; जिसमें आप सभी के योगदान की आवश्यकता है। समस्त प्रबुद्धजनों से वेबसाइट की विषयवस्तु के संदर्भ में बौद्धिक एवं व्यावहारिक सहयोग की अपेक्षाओं के साथ - 
( kashikatha@gmail.com पर आपका सहयोग अपेक्षित है। )

बनारस के शीर्षस्थ हस्तिओं को जाननें के लिए

रामनगर रामलीला

न तो वहाँ बिजली की रोशनी और न ही लाउडस्पीकर की आवाज और खुले आसमान में साधारण मंच पर रामलीला होती है। "काशी" को यूँ ही दुनिया का 'सबसे बूढ़ा शहर' नही कहा जाता है यह आते ही आधुनिक ज़माना पीछे छूट जाता है।