पंडाजी का अखाड़ा वाराणसी

बाँसफाटक की ढलान के बाई तरफ पंडाजी का अखाड़ा है। यह आधुनिक अखाड़ों की दुनिया में महत्वपूर्ण स्थान रखता है। अखाड़े के वर्तमान संचालक भवानी शंकर पाण्डेय के अनुज श्री गणेश शंकर पाण्डेय हैं। पं0 महादेव पाण्डेय इसके संस्थापक थे। उन्हें पण्डा जी कहा जाता था। पहले यहाँ अखाड़ा नहीं था। तलवार भाँजना, बरछी चलाना आदि सिखाया जाता था। पण्डा जी रामकुण्ड के अखाड़े में कुश्तियों के लिए जाते थे। कुश्ती के प्रेमी होने से उन्होंने निजी व्यय पर इसका निर्माण किया। इस अखाड़े में मंगलाराय, गुँगई, नत्था, श्रीपत, रामबालक आदि प्रसिद्ध नाम पैदा हुए। इन्हें राष्ट्रीय स्तर पर सफलता मिली। मंगलाराय को इलाहाबाद के एक दंगल में गुँगई पहलवान ने पलक झपकते दे मारा था। महाराष्ट्र केशरी प्राप्त श्रीपत ने ‘खचनाले’ से दो महीने तक काँटे की लड़ाई मोल ली। मामला बराबरी पर तय हुआ। गुँगई अपने आप में दाँव प्रसिद्ध माने जाते थे। श्रीपत को ‘करइत साँप’ कहा जाता था। मंगलाराय ने देश तथा वर्मा के पहलवानों को पछाड़ा था। पाकिस्तान के गुलाम गौरा निजाम को इन्होंने ‘ढाँक’ पर चित्त कर दिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here